हरियाणा के पलवल में मस्ज़िद निर्माण में लगा पाक आतंकी संगठन का पैसा


नई दिल्ली, 15 अक्तूबर (इंट) : पाकिस्तान से जुड़े एक आतंकी संगठन फलाह-ए-इंसानियत फाऊंडेशन (एफआईएफ) से भारत में रुपए की फंडिंग को लेकर एनआईए की जांच में बड़ा खुलासा हुआ है। राष्ट्रीय जांच एजैंसी (एनआईए) को टेरर फंडिंग के मामले में गिरफ्तार मोहम्मद सलमान से पूछताछ में पता चला है कि हरियाणा और राजस्थान के कुछ मदरसों के लिए पाकिस्तान से पैसे आए थे। पुलिस की पूछताछ में सलमान ने बताया कि वह हरियाणा के पलवल के उठावर गांव में एक मस्ज़िद बनवा रहा था। सलमान ने इस बात को भी कुबूल किया कि इस मस्ज़िद को बनवाने के लिए एफआईएफ ने फंडिंग की थी। एनआईए के प्रवक्ता ने कहा,‘मोहम्मद सलमान को दुबई में रह रहे एक पाकिस्तानी नागरिक कामरान से 70 लाख रुपए मिले थे। पुलिस ने इस बात की आशंका जताई है कि कामरान आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के लिए काम करता था। पुलिस अधिकारियों ने आशंका जताई है कि पलवल में निर्मित हो रही मस्ज़िद की फंडिंग आतंकी गतिविधियों को अंजाम तक पहुंचाने के लिए की गई थी। सलमान ने बताया कि आतंकी संगठनों से आए पैसे को दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा, गुजरात व जम्मू-कश्मीर भी भेजा गया। साथ ही कुछ इस्लामिक इंस्टीच्यूट को भी दिए गए। इस खुलासे के बाद एन.आई.ए. ने सलमान की हिरासत बढ़वा ली है। एफ.आई.एफ. का संबंध हाफिज़ सईद के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से है। टेरर फंडिंग के मामले में एन.आई.ए. दिल्ली, जम्मू-कश्मीर में लगातार छापेमारी कर रही है। एन.आई.ए. के अनुसार विदेशों में एफ.आई.एफ. सदस्यों से दिल्ली में कई लोगों ने राशि प्राप्त की और इस राशि का उपयोग आतंकी गतिविधि के लिए किया गया। हाल ही में एन.आई.ए. ने मोहम्मद सलमान (52), मोहम्मद सलीम (62), श्रीनगर के सज्जाद अब्दुल वानी (34) को गिरफ्तार किया है।