देश के 256 ज़िलों में जल संकट


नई दिल्ली, 9 दिसम्बर (वार्ता) : जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने सोमवार को राज्यसभा में कहा कि देश में  256 ज़िलों के 1500 से अधिक प्रखंडों में जल संकट गहराने की आशंका है और इससे निपटने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। श्री शेखावत ने सदन में प्रश्नकाल के दौरान एक पूरक प्रश्न के उत्तर में नीति आयोग की रिपोर्ट ‘कंपोजिट वॉटी मैनेजमेंट इंडैक्स’ को खारिज कर दिया कि देश के 21 शहरों में वर्ष 2020 तक भू जल समाप्त हो जाएगा। यह रिपोर्ट भू जल के पुनर्भरण व इसके निष्कासन के अनुमानों पर आधारित है। इसमें गहरे भू जल स्तर को ध्यान में नहीं रखा गया है। सरकार ने जल शक्ति अभियान शुरू किया है जिसमें उन 256 जिलों के 1500 से अधिक प्रखंडों में भू जल स्तर सुधार के प्रयास किये जाएगें। इसके लिए प्रत्येक जिले के लिए केंद्र, राज्य तथा स्थानीय अधिकारियों को मिलाकर एक दल का गठन किया गया है। शेखावत ने कहा कि देश में अनुमानित 3880 अरब घन मीटर वर्षा जल प्रत्येक वर्ष प्राप्त होता है। इसमें से वाष्पीकरण के बाद 1999.20 अरब घन मीटर जल प्राकृतिक रुप से बचता है। कुल 690 अरब घन मीटर जल भूतल पर रहता है और 432 अरब घन मीटर जल भूगर्भ में चला जाता है। देश में सक्रिय जल भंडारण क्षमता 257.812 अरब घन मीटर है।