पंजाब में गत वर्ष की दीवाली की उपेक्षा वायु प्रदूषण 24 अंक कम रहा


लुधियाना/ पटियाला, 28 अक्तूबर (पुनीत बावा/ जसपाल सिंह ढिल्लों): पंजाब में गत वर्ष की उपेक्षा चाहे वायु प्रदूषण 24 अंक कम दर्ज किया गया है। परंतु पाबंदी के बावजूद व प्रदूषण रोकथाम बोर्ड द्वारा पंजाब भर में थाना प्रभारियों को  निर्धारित समय के बाद पटाखे न चलाने का आदेश हवा होता नज़र आया। पंजाब भर में लोगों ने देर रात्रि तक पटाखे जलाए। प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2017 में वायु प्रदूषण 328 सूचकांक, वर्ष 2018 में 234 सूचकांक व वर्ष 2019 में वायु प्रदूषण 210 सूचकांक दर्ज किया गया है। पंजाब के लुधियाना, जालन्धर, अमृतसर, पटियाला, खन्ना, मंडी गोबिंदगढ़, बठिंडा, रोपड़ में प्रदूषण रोकथाम बोर्ड द्वारा लगाए गए वायु प्रदूषण मापक यंत्र के ज़रिये जो अंक दर्ज किए गए हैं। उसके अनुसार पंजाब में वायु प्रदूषण 210 सूचकांक रहा। 2018 में औसतन पी.एम. (10) 277 माइक्रोग्राम घन मीटर व पी.एम. (2.5) 126 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर दर्ज की गई। 2019 में औसतन पी.एम. (10) 212 माइक्रोग्राम घन मीटर व पी.एम. (2.5) 117 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज की गई है। वर्ष 2017 में पी.एम. (10) 52 प्रतिशत माइक्रोग्राम घन मीटर व पी.एम. (2.5) 48 प्रतिशत माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर के मुकाबले इस वर्ष पी.एम. (10) 23.14 प्रतिशत माइक्रोग्राम घन मीटर कम व पी.एम. (2.5) 7.14 प्रतिशत माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर कम दर्ज किया गया। पंजाब में दीवाली वाले दिन 2231 स्थानाें पर धान की पराली को आग लगाने की घटनाएं हुई हैं।
माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा दीवाली वाले दिन रात्रि 8 बजे से 10 बजे तक ही पटाखे जलाने का आदेश जारी किया गया था। परंतु पंजाब के हर शहर में देर रात्रि तक पटाखे जलते रहे। पटाखे जलाने वालों को नकेल डालने के लिए अदालत द्वारा प्रदूषण रोकथाम बोर्ड के ज़रिये प्रयास करने के लिए कहा गया था। बोर्ड द्वारा चाहे पूरे पंजाब के थाना प्रभारियों को अपने-अपने क्षेत्रों में निर्धारित समय के बाद पटाखे चलाने वालों को रोकने के लिए कहा गया था परंतु पंजाब में सभी आदेश धरे के धरे रह गए। आज सायं 5 बजे वायु गुणवत्ता अंक खन्ना में पी.एम. (2.5) 161 व पी.एम. (10) 152, मंडी गोबिंदगढ़ में पी.एम. (2.5) 179 व पी.एम. (10) 96, पटियाला में पी.एम. (2.5) 191 व पी.एम. (10) 164, रोपड़ में पी.एम. (2.5) 136 व पी.एम. (10) 46, लुधियाना में पी.एम. (2.5) 163 व पी.एम. (10) 93, जालन्धर में पी.एम. (2.5) 158 व पी.एम. (10) 83 अंक  दर्ज किया गया है। पंजाब प्रदूषण रोकथाम बोर्ड के चेयरमैन प्रो. सतविंदर सिंह मरवाहा ने कहा कि सभी पक्षों के सहयोग से पंजाब में दीवाली वाले दिन वायु प्रदूषण में गिरावट दर्ज की गई है। उन्होंने कहा कि दीवाली  वाली रात निर्धारित समय तक पटाखे जलाने को यकीनी बनाने के लिए बोर्ड की टीमों ने फील्ड में जाकर प्रयास किए हैं परंतु भविष्य में इन प्रयासों को और भी कारगर बनाया जाएगा।