अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति के लिए पंजाब की सिर्फ 14, 730 शिक्षा संस्थाओं ने ही की रजिस्ट्रेशन


वरसोला, 9 अक्तूबर (वरिंदर सहोता ) : केन्द्र सरकार ने अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा अल्पसंख्यक वर्ग के विद्यार्थियों के लिए चलाई जा रही प्री-मैट्रिक और पोस्ट मैट्रिक वज़ीफा के लिए आनलाइन फार्म भरने का समय चल रहा है। प्री-मैट्रिक योजना के तहत भरे गए वज़ीफा फार्मों के लिए वैरीफिकेशन करने के लिए केन्द्र सरकार ने 31 अक्तूबर और पोस्ट मैट्रिक के लिए 15 नवम्बर तक का समय निश्चित किया हुआ है। इसलिए नैशनल स्कालरशिप पोर्टल से संबंधित संस्था की रजिस्ट्रेशन करनी ज़रूरी है। साथ ही संस्था द्वारा अपना एक नोडल अधिकारी भी लगाया जाना ज़रूरी किया हुआ है, जिसको ज़िला शिक्षा अधिकारियों के कार्यालय से एक गुप्त पासवर्ड भी मिलता है। स्कूल में यह नोडल अधिकारी योग्य विद्यार्थियों के फार्म भर सकता है और विद्यार्थियों के अभिभावक स्वयं भी यह फार्म आनलाइन भर सकते हैं। परंतु इन फार्मों की वैरीफिकेशन करने के लिए संस्था की नैशनल स्कालरशिप पोर्टल और रजिस्टे्रशन होना ज़रूरी है। यह रजिस्ट्रेशन करने के लिए सबसे पहले 27 अगस्त का समय निश्चित किया गया था। परंतु फिर इसकी बढ़ोतरी करते हुए 12 सितम्बर का समय निश्चित किया गया और समूह ज़िला शिक्षा अधिकारियों द्वारा संस्थाओं को निश्चित समय दौरान रजिस्ट्रेशन करने के आदेश दिए गए थे। परंतु इसके बावजूद इस निश्चित समय दौरान भी पंजाब की सिर्फ 14, 730 संस्थाओं ने ही अपनी रजिस्ट्रेशन की। जबकि बाकी 15, 442 शिक्षा संस्थाओं ने इसको गंभीरता से न लेते हुए अपनी संस्था की रजिस्ट्रेशन नहीं की और न ही इस संबंधी विद्यार्थियों को जागरूक किया। इसके कारण यहां कई योग्य विद्यार्थियों के इस वज़ीफे की सुविधा के लिए फार्म भरने से ही वंचित रह जाने की संभावना है वहीं जो संस्थाओं ने उक्त रजिस्टे्रशन के फार्म भर कर स्वीकृति नहीं करवाए उन विद्यार्थियों के वज़ीफे की दर्खास्त संस्थाओं ने लागइंन आई.डी. में वैरीफाई करने के लिए लम्बित रह जाएंगे। इस दौरान पंजाब राज्य अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य विक्टर मसीह ने कहा कि शिक्षा संस्थाओं के प्रमुखों व मैनेजमैंटों  को इस संबंधी लापरवाही दिखाने की बजाय स्वयं विद्यार्थियों व उनके अभिभावकों को इसके प्रति जागरूक करना चाहिए ताकि योग्य विद्यार्थियों को इस वज़ीफा योजना का लाभ मिल सके।