छापेमारी करने गई पुलिस की लोगों से हुई झड़प, 1 की मौत कई घायल 


डबवाली, 9 अक्तूबर  (कृष्ण गिलोतरा ) पंजाब-हरियाणा के सीमा पर बसे गांव देसूजोधा में बुधवार को पुलिस और ग्रामीणों के बीच पत्थरबाजी और फायरिंग हो गई। इस भिड़ंत में आरोपी के चाचा की जान चली गई। वहीं चार पुलिस वाले भी गंभीर रूप से घायल हो गए। नशा तस्करी के मामले में आरोपी कुलविंदर सिंह को पकड़ने गई पंजाब पुलिस की सीआईए वन की टीम पर गांव के लोगों ने पत्थरबाजी कर दी। इसमें एक एएसआई सहित चार पुलिस कर्मी घायल हो गए। वहीं पुलिस की जवाबी कार्रवाई में आरोपी के चाचा जग्गा सिंह की गोली लगने से मौत हो गई। घायल पुलिस कर्मियों को मैक्स अस्पताल बठिंडा में दाखिल करवाया गया। यहां एसएसपी नानक सिंह के अलावा पुलिस फोर्स तैनात रही।
नशा तस्करों को पकड़ने गई थी पुलिस की टीम
 मिली जानकारी के अनुसार, सीआईए स्टॉफ वन की टीम एएसआई हरजीवन सिंह के नेतृत्व में नशा तस्करी के मामले में कुलविंदर सिंह को गिरफ्तार करने के लिए बुधवार को सुबह करीब छह बजे गांव देसूजोधा पहुंची थी। जब पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करने का प्रयास किया तो गांव के लोगों ने विरोध जताते हुए पत्थरबाजी शुरू कर दी। कुछ पुलिस कर्मियों के गले में रस्सियां डालकर उन्हें घसीटा भी गया। पुलिस टीम ने अपने बचाव में फायरिंग की तो आरोपी कुलविंदर सिंह के चाचा जग्गा सिंह को एक गोली लग गई। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस की ओर से की जा रही फायरिंग के जवाब में गांव के लोगों ने भी फायरिंग शुरू कर दी, जिस में एक एएसआई समेत कांस्टेबल कमलजीत सिंह और दो अन्य कांस्टेबल घायल हो गए। सूचना मिलते ही शहर थाना डबवाली के प्रभारी जितेंद्र कुमार व डीएसपी कुलदीप सिंह अपने दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे और उक्त सभी घायलों को उपचार के लिए डबवाली के नागरिक अस्पताल में उपचाराधीन करवाया। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद रैफर कर दिया गया। पंजाब पुलिस उन्हें बठिंडा के मैक्स अस्पताल में ले गई। कांस्टेबल कमलजीत सिंह की हालत गंभीर बनी हुई है। घटना की सूचना मिलने पर गांव देसूजोधा में भारी पुलिस फोर्स को तैनात कर दिया गया और डीएसपी एच राकेश भी पुलिस पार्टी समेत मौके पर पहुंचे। उधर, दूसरी तरफ बठिंडा के मैक्स अस्पताल में एसएसपी नानक सिंह घायल पुलिस कर्मियों से बातचीत करने पहुंचे। अस्पताल परिसर को पुलिस छावनी में तबदील कर दिया गया है।